Monday, February 6, 2017

Khwaish

मुझे आज खुद को पढ़ने की ख्वाहिश हुई...

मैं पुराने पन्ने पलटती रही और तू ही तू दिखता रहा मुझे..


No comments:

Post a Comment

Success

अभी काँच हूँ  इसलिए सबको चुभता हूँ,   ♦जिस_दिन☝🕵   आइना बन_जाऊँगा , उस दिन  पूरी दुनियाँ देखेगी ...!!