Thursday, February 9, 2017

Dhokha

साँसों का टूट जाना तो दस्तूर है कुदरत का..

जिस मोड़ पर अपने बदल जाये उसे मौत कहते हैं !!


No comments:

Post a Comment

Success

अभी काँच हूँ  इसलिए सबको चुभता हूँ,   ♦जिस_दिन☝🕵   आइना बन_जाऊँगा , उस दिन  पूरी दुनियाँ देखेगी ...!!